Saturday, March 31, 2012

ऐसा क्यूँ होता है?

ऐसा क्यूँ होता है?
चंचल मन को रोक न पाउ,
धूम फिर के फिर वही आ जाऊं,
चाहें सांस अटके,
या अखियाँ बरसे,
सोचों पर क्या रोक लगाऊं!
एक हि सूरत भूल ना पाऊं,
मन कि आँखें मुंद ना पाऊं,
जबरन हि सही,
पर हंस ना पाऊं,
ऐसा क्यूँ होता है?




9 comments:

  1. आपको रामनवमी और मूर्खदिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ----------------------------
    कल 02/04/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. एक निवेदन
    कृपया निम्नानुसार कमेंट बॉक्स मे से वर्ड वैरिफिकेशन को हटा लें।
    इससे आपके पाठकों को कमेन्ट देते समय असुविधा नहीं होगी।
    Login-Dashboard-settings-posts and comments-show word verification (NO)

    अधिक जानकारी के लिए कृपया निम्न वीडियो देखें-
    http://www.youtube.com/watch?v=VPb9XTuompc

    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद यशवंतजी .

      Delete
  3. जब मनकी मन में रह जाती
    तब ऐसा ही होता है ......

    ReplyDelete
  4. जब कोई फांस अटकी हो मन में तो कोई कैसे हँसे....

    सुन्दर भाव अम्बर जी.,....

    अनु

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी,अनुजी ,धन्यवाद

      Delete
  5. man me hai koi bat kyo fansi
    kahado dol ki bat ...de hansi
    nahi rahegi man ki faans

    uttam rachana

    ReplyDelete
  6. भावों से नाजुक शब्‍द...

    ReplyDelete